ओरछा को अंतर्राष्ट्रीय पहचान दिलाने के लिए 'नमस्ते ओरछा' फेस्टिवल; संस्कृति और विरासत से देंगे पर्यटन को बढ़ावा

भोपाल. पर्यटकों को भ्रमण का यादगार बनाने और यूनेस्को की अस्थायी सूची में शामिल ओरछा को एक नई पहचान दिलाने के लिए मप्र सरकार तीन दिवसीय 'नमस्ते ओरछा' महोत्‍सव का आयोजन करने जा रही है। इसमें ओरछा की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत और लोक कला और संस्कृति को लोगों के सामने नए रंग में पेश किया जाएगा। ताकि ओरछा की ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहरों और पर्यटन को बढ़ावा देने के साथ ही, सांस्‍कृतिक विविधता, प्राकृतिक सौंदर्य और स्‍थापत्‍य कला संबंधी विरासत को प्रोत्‍साहित किया जा सके। महोत्सव का आयोजन 6-8 मार्च 2020 में किया जा रहा है।


देश में प्रमुख पर्यटन स्‍थल के रूप में राज्‍य को प्रमोट करने के चल रहे मौजूदा प्रयासों के साथ ही राज्‍य पर्यटन बोर्ड ने नमस्‍ते ओरछा महोत्‍सव की घोषणा की है। राज्‍य की समृद्ध सांस्‍कृतिक विरासत को प्रदर्शित करने वाला यह महोत्‍सव 6-8 मार्च 2020 तक ऐतिहासिक शहर ओरछा में आयोजित किया जाएगा। मुख्‍य सचिव सुधी रंजन मोहंती ने भोपाल में इस महोत्‍सव की घोषणा की।


देश के गोल्डन ट्रैंगल पर स्थित है ओरछा 
मुख्‍य सचिव श्री सुधी रंजन मोहंती ने कहा, "यह बहुत ही गर्व की बात है कि ओरछा को राष्‍ट्रीय पर्यटन पुरस्‍कार 2017-18 में सर्वश्रेष्‍ठ विरासत शहर के पुरस्‍कार से नवाजा गया है और यह पहले ही यूनेस्‍को वर्ल्‍ड हेरिटेज साइट्स की सूची में है। ओरछा में भारत आने वाले पर्यटकों के लिए गोल्‍डन ट्रैंगल अतिरिक्‍त पर्यटन स्‍थल के रूप में शामिल होने की पूरी क्षमता है। इस हेरिटेज टाउन में हर साल एक महोत्‍सव का विचार है जिसमें मध्‍य प्रदेश की संस्‍कृति की झलक मिले, कौशल विकास को नए आयाम मिलें, स्‍थानीय युवाओं के लिए रोजगार के अवसर पैदा हों और टिकाऊ आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के साथ ही अतुल्‍य भारत की छवि में महत्‍वपूर्ण योगदान दे।"


घरेलू के साथ ही विदेशी पर्यटकों को आकर्षित करने पर जोर 
मध्‍य प्रदेश में देश के लोकप्रिय पर्यटन स्‍थल जैसे खजुराहो, उज्‍जैन, सांची, भीमबेटका आदि होने के साथ ही हाल ही में सर्वश्रेष्‍ठ विरासत शहर का पुरस्‍कार पाने वाले ओरछा जैसे अन्‍य शानदार पर्यटन स्‍थल भी हैं जिनमें पर्यटन की शानदार संभावनाएं हैं। 'नमस्‍ते ओरछा' के तहत मध्‍य प्रदेश के दर्शन ओरछा में होंगे और इस दौरान संगीत, नृत्‍य, विरासत भ्रमण, कार्यशालाएं, स्‍थानीय व्‍यंजन, कलाओं और हस्‍तशिल्‍प की झांकी देखने को मिलेगी। इस महोत्सव का मकसद घरेलू के साथ ही अंतर्राष्ट्रीय पर्यटकों को आकर्षित करना है। 


ऐतिहासिक शहर ओरछा में असाधारण महोत्सव 


ऐतिहासिक और विलक्षण शहर ओरछा में तीन दिन के इस असाधारण महोत्‍सव में विविध गतिविधियां जैसे म्‍यूजिक, आर्ट, वैलनेस, ट्रेवल, नेचर, एडवेंचर, हिस्‍ट्री और कल्‍चर आदि संबंधी कार्यक्रम आयोजित होंगे। जानीमानी सितार वादक तानसेन पुरस्‍कार से सम्‍मानित मंजु मेहता इस महोत्‍सव में प्रस्‍तुति देंगी। महोत्‍सव के दौरान पर्यटकों के लिए 'ग्राम' और 'फार्म' पर ठहरने की सुविधा दी जाएगी। इस दौरान फोटोग्राफी, फिल्‍म मेकिंग, परफॉर्मिंग आर्ट्स के लिए कार्यशालाएं और साइट विजिट भी होंगी। मध्‍य प्रदेश की हस्‍तशिल्‍प विरासत को दिखाने के लिए प्रदर्शनी, मशहूर कारीगरों और ग्‍लोबल एवं लोकल ब्रांड्स के साथ फैशन और डिजाइन के दर्शन भी करवाए जाएंगे। 


 


Popular posts
दिल्ली जल रही है...ऐसे समय महात्मा गांधी सांप्रदायिक आग बुझाने के लिए सबसे पहले खड़े होते : डॉ. शोभना राधाकृष्ण
भोपाल: लाे फ्लाेर बसों में जेबकटी की रोज 10-12 वारदात; कैमरों से सिर्फ रिकाॅर्डिंग, मॉनीटरिंग नहीं
मिर्च महोत्सव / कृषि मंत्री बोले - किसान जैविक खेती की ओर कदम बढ़ाएं, अब फसल चिह्नित कर खेती करने की जरूरत
फ्लाइट इंस्ट्रक्टर के निर्देशों की अनसुनी कर रहे थे कैप्टन और ट्रेनी पॉयलट, थोड़ी देर बाद हो गया चाइम्स एविएशन का प्लेन क्रैश
Image
ड्यूटी के दौरान सीआईएसएफ जवान ने सर्विस राइफल से खुद को गोली मारी, मौके पर मौत